जाग मेरी बहना – जाग मेरे भइया

जाग मेरी बहना जाग मेरे भइया

शारदा से कटने न पाये मडइया

जाग मेरी बहना जाग मेरे भइया ……….|

बीते जमाने में अपना भी राज था |

गांवो में खुशिया थी खेतों में नाज था |

घर के बयालों में गाये चिरैया

शारदा से कटने न पाये मडइया

जाग मेरी बहना जाग मेरे भइया ……….|

चलकर सरकार से पूछे सवाल रे

शारदा से कटते हुए बीते साठ साल रे

डूब गयी कितनो की जीवन की नैइया

शारदा से कटने से न पाये मडइया

जाग मेरी बहना जाग मेरे भइया ……….|

मंत्री से चलो चले पूछें सवाल रे

हर साल डूबे गांव कैसी ये चाल रे

तुम ही डुबाते हो बनके खिवैया

शारदा से कटने से न पाये मडइया

जाग मेरी बहना जाग मेरे भइया ……….|

सीतापुर जिले का बहुत बुरा हाल रे

आधे में सूखा है आधे में बाढ रे

शासन प्रशासन न कोई सुनैया

शारदा से कटने से न पाये मडइया

जाग मेरी बहना जाग मेरे भइया ……….|

सोये हुये लोगों को अब हम जगायेंगे

बहुत कुछ सहा है न अब हम सहेंगें

अपनी ही नैया के हम खुद खिवैया

दुष्‍टो से लडने को एक हो जा भइया

शारदा से कटने से न पाये मडइया

जाग मेरी बहना जाग मेरे भइया ……….|

                                                                                       सुरबाला वैश्‍य सतनापुर  
Advertisements

Tagged as: , , ,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: