जाग मेरी बहना – जाग मेरे भइया

जाग मेरी बहना – जाग मेरे भइया शारदा से कटने न पाये मडइया जाग मेरी बहना – जाग मेरे भइया ……….| बीते जमाने में अपना भी राज था | गांवो में खुशिया थी खेतों में नाज था | घर के बयालों में गाये चिरैया शारदा से कटने न पाये मडइया जाग मेरी बहना – जागContinue reading “जाग मेरी बहना – जाग मेरे भइया”

Advertisement

टांगे तोड़े रे महंगाई

टांगे तोड़े रे महँगाई, का बताई ककुआ सत्तर रूपया में दाल हुइ गयी, अस्सी मा भा प्याज बीस रुपइया बढ़ी मंजूरी, कइसे पेट चलाई का बताई ककुआ…….. जीना मुश्किल हुईगा भाई, का बताई ककुआ टांगे तोड़े रे महँगाई, का बताई ककुआ लोग कहे मज़दूरी बढ़िगे, मज़दूरन के ठाठ चालीस रूपया में आटा हुइगा, चूल्हा देखैContinue reading “टांगे तोड़े रे महंगाई”